100+ Shocking Facts About Hyena In Hindi

Facts About Hyena in Hindi - दोस्तों आज हम आपको इस पोस्ट में लकड़बग्घे के बारे में जानकारी देंगे। लकड़बग्घा, हाइयेनिडी कुल से संबंधित एक मांसाहारी स्तनधारी जीव है। इसका प्राकृतिक आवास एशिया और अफ्रीका दोनो महाद्वीप हैं। वर्तमान काल में इसकी चार जीवित प्रजाति अस्तित्व में है। यह बहुत चालाक जानवर है। तो चलिए अब हम आपको लकड़बग्घे के बारे में कुछ रोचक तथ्य (Information & Facts About Hyena In Hindi) बताते है।

100 Shocking Facts About Hyena In Hindi

हाइना के बारे में चौंका देने वाले तथ्य - Hyena Facts in Hindi

  • एर्दोवेम्स (aardwolves) एकान्त जानवर है जो केवल संभोग के मौसम के दौरान इकट्ठा होते है।
  • हाइना की हंसी अन्य हाइना को सूचित करती है कि एक नया भोजन स्रोत स्थित है।
  • हाइना की सीधी पूंछ हमले का संकेत देती है।
  • हायना अपने शावकों का “नताल मांद” में ध्यान रखते है। नताल मांद एक विशेष मांद है जो 4 सप्ताह तक शावकों के साथ माताओं के लिए आरक्षित होता है।
  • मां हाइना 12-18 महीनों के लिए अपना दूध शावक को पिलाती है।
  • मादा चित्तीदार हाइना नर की तुलना में अधिक muscular और आक्रामक होती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि मादाओं के शरीर में नर की तुलना में तीन गुना अधिक टेस्टोस्टेरोन (testosterone) होता है।
  • दूसरा सबसे बड़ा लकड़बग्घा ब्राउन हाइना (वैज्ञानिक नाम : Hyaena brunnea) है, जो 130 से 160 सेंटीमीटर (51 से 63 इंच) तक लंबा और 34 से 72.6 किलोग्राम (75 से 160 पाउंड) वजनी होता है।
  • धारीदार लकड़बग्घा (striped hyena) पंजे से कंधे तक 100 से 115 सेंटीमीटर (39 से 45 इंच) लंबा और 66 से 75 सेंटीमीटर (26 से 30 इंच) ऊँचा होता है। उसकी पूंछ 30 से 40 सेंटीमीटर (12 से 16 इंच) होती है और उसका वजन 26 से 41 किलोग्राम (57 से 90 पाउंड) है।
  • नर और मादा लकड़बग्घा एक जैसे दिखते है और उनमें समान गुप्तांग होते है, लेकिन वे हेर्मैप्रोडाइट्स (hermaphrodites) नहीं है (वे जानवर जो एक ही समय में नर और मादा दोनों के रूप में कार्य कर सकते है). केवल मादा लकड़बग्घा जन्म देती है।
  • लकड़बग्घा का आकार एक जैसा नहीं होता। उनके आकार में काफ़ी विविधता देखने को मिलती है।
  • जन्म के बाद लकड़बग्घा के शावकों की आँखें 5 से 9 दिन तक बंद रहती है।
  • एक समूह की मादाएं एक-दूसरे के शावकों की देखभाल करने की ज़िम्मेदारी साझा करती है। समूह के अन्य सदस्य शावकों के लिए मांद में भोजन लाते है।
  • 2 सप्ताह का होने तक शावक को मांद में ही रहते है। उसके बाद वे मांद से बाहर जाने लायक हो जाते है।
  • शावक 6 माह तक पूर्णतः माँ के दूध पर निर्भर रहते है।
  • एक चित्तीदार लकड़बग्घा (Spotted hyena) एक बार में अपने शरीर के वजन का एक-तिहाई आहार ग्रहण कर सकता है।
  • लकड़बग्घा खाना बर्बाद नहीं करता। वह जानवर की हड्डी से लेकर खुर तक खा जाता है।
  • लकड़बग्घा अपना बचा हुआ भोजन जल-विवर (watering hole) पर छुपा में रखते है।
  • लकड़बग्घा समूह में रहने वाला जानवर है। उनके समूह को ‘clan’ कहा जाता है। प्रजाति अनुसार उनके समूह के आकार छोटे-बड़े होते है।
  • एक लकड़बग्घा का दिल समान आकार के स्तनधारियों से दोगुना बड़ा होता है।
  • चित्तीदार लकड़बग्घा (Spotted hyena) 60 किलोमीटर (37 मील) प्रति घंटे की रफ़्तार से दौड़ सकता है।
  • लकड़बग्घाओं में संभोग समूह के बाहर होता है। गैर-संबंधित नर और मादा लकड़बग्घा कुछ दिनों के प्रेमालाप के बाद संभोग करते है।
  • विभिन्न प्रजातियों के लकड़बग्घाओं के गर्भकाल में अंतर होता है। चित्तीदार लकड़बग्घा (Spotted hyena) का गर्भकाल 110 दिन, धारीदार लकड़बग्घा (Stripes Hyena) का 90-91 दिन, भूरा लकड़बग्घा (Brown Hyean) का 97 दिन और एर्डवुल्फ (Aardwolf) का 91 दिन होता है।
  • लकड़बग्घा को बुद्धिमानी में प्राइमेट्स के स्तर पर रखा जाता है। वे बंदरों और चिम्पांजी की तरह गिनती सीख जाते है। वे भोजन से भरे हुए स्टील के बॉक्स को खोलने का तरीका खोज निककालते है।
  • लकड़बग्घा मछली पकड़ने का तरीका जानते है। गर्मियों के मौसम में उन्हें उथले पानी में से मछली पकड़ते भी देखा गया है।
  • धारीदार लकड़बग्घा का उल्लेख बाइबल में मिलता है।
  • लकड़बग्घा के बारे में बहुत सारे मिथक और किंवदंतियाँ है। तंजानिया और भारत की किंवदंतियों में माना जाता था कि हाइना चुड़ैलों की सवारी है।

हाइना (लकड़बग्धा) के बारे में रोचक तथ्य | Interesting & Amazing Facts About Hyena In Hindi

  • लकड़बग्घाओं में केवल चित्तीदार और धारीदार लकड़बग्घा ही आदमखोर होते है।
  • हाइनास गुदा ग्रंथि (anal gland.) में उत्पादित सफेद बूंदों के साथ अपने क्षेत्र को चिह्नित करते है। इस पदार्थ में तेज गंध है और यह अन्य हाइना को सूचित करता है कि उस क्षेत्र पर पहले से ही कब्जा कर लिया गया है।
  • लकड़बग्घा और शेर के बीच क्षेत्राधिकार और शिकार को लेकर हमेशा प्रतिस्पर्धा रहती है क्योंकि उनके रहने का क्षेत्र और आहार एक जैसा ही होता है। शारीरिक डील-डौल में लकड़बग्घा के बड़ा होने के कारण लड़ाई में अक्सर शेर उस पर भारी पड़ता है।
  • चित्तीदार लकड़बग्घाओं के समूह में मादा लकड़बग्घा का वर्चस्व होता है। जबकि अन्य प्रजाति में नर लकड़बग्घाओं का वर्चस्व होता है। लकड़बग्घा विभिन्न ध्वनियों, मुद्राओं और संकेतों का उपयोग कर एक-दूसरे के साथ संवाद करते है।
  • चित्तीदार लकड़बग्घा (Spotted hyenas) को ‘laughing hyenas’ भी कहा जाता है। ऐसा उसके द्वारा निकाली जाने वाली एक विशिष्ट ध्वनि के कारण है, जो मनुष्य की हँसी एक समान प्रतीत होती है। पर वास्तव में यह हँसी नहीं होती। उत्तेजना या निराशा दूर करने के लिए “हंसी” की तरह की आवाज़ निकालते है। शिकार के दौरान इस आवाज़ को अक्सर सुना जा सकता है।
  • लकड़बग्घा का एकमात्र शिकारी मनुष्य है। लकड़बग्घा खेती के लिए जमीन पर कब्जे के कारण अपना विचरण-क्षेत्र खोते जा रहे है। आमतौर पर पशुफार्म पर पशुओं पर हमला करने के कारण ये रैंचर्स की गोली का शिकार भी हो जाते है।
  • International Union for Conservation of Nature (IUCN) के अनुसार वर्तमान में केवल भूरा लकड़बग्घा विलुप्ति के कगार पर है। अनुमान अनुसार वर्तमान में पूरे विश्व में 10,000 व्यस्क भूरा लकड़बग्घा है, जिनकी जनसंख्या अगली तीन पीढ़ी में 10% घट सकती है।
  • हाइना अफ्रीका के सबसे आम मांसाहारी है।
  • माना जाता है कि जानवरों के ललाट कोर्टेक्स का आकार इसकी सामाजिक बुद्धिमत्ता से जुड़ा होता है। हाइन में प्राइमेट के साथ बराबर ललाट कोर्टेक्स होता है, जो उन्हें बाकियों से बेहतर बनाता है।
  • हाइना का एक समूह आधे घंटे के भीतर पूरे ज़ेबरा को खा सकता है, बिना कुछ छोड़े।
  • जब हाइना लंबे समय के बाद अन्य हाइना से मिलते है, तो वे एक-दूसरे का आवेदन करते है। अभिवादन समारोह के दौरान, नर और मादा हाइना इरेक्शन विकसित करते है।
  • मादा चित्तीदार लकड़बग्घा (Spotted hyena) में छद्म लिंग होता है, जो 7 इंच तक बढ़ सकता है। इसका उपयोग वह पेशाब, मैथुन, और जन्म के लिए करती है, जो कि जन्म देने की प्रक्रिया को कठिन बना सकती है।
  • अनुमान अनुसार 60 प्रतिशत चित्तीदार लकड़बग्घा (Spotted hyena) शावक जन्म के समय घुटन से मर जाते है। (यह माताओं के लिए भी खतरनाक है; शिशु शावक छद्म लिंग की परत को फाड़ सकता है और यह चोट घातक साबित हो सकती है।)
  • मादा लकड़बग्घा में केवल दो निपल्स होते है। इसलिए दो से अधिक शावक होने पर उन्हें दूध पीने के आपस में लड़ना पड़ता है। सबसे कमजोर शावक भूखा रह जाता है।
  • नर हाइना की तुलना में मादा हाइना अधिक बड़ी और अधिक प्रभावी होती है।
  • हाइना प्रादेशिक क्षेत्रों में रहते है।
  • हाइना शिकारी होने के साथ- साथ मुर्दाखोर भी है।
  • हाइना रात के दौरान शिकार करने वाले निशाचर जानवर है।
  • हाइना अपने मल से अपने क्षेत्र को चिह्नित करते है।
  • लकड़बग्घा अफ्रीका और एशिया के सवाना, घास के मैदान, उप-रेगिस्तान, जंगल और पहाड़ों में पाए जाते है।
  • लकड़बग्घा (Hyena) की उम्र औसतन 12 साल होती है। लेकिन वे 25 साल तक जीवित रह सकते है।
  • सबसे बड़े आकार का लकड़बग्घा चित्तीदार लकड़बग्घा ‘Spotted Hyena’ (वैज्ञानिक नाम: Crocuta crocuta) है, जिसके शरीर की लंबाई 1.2 से 1.8 मीटर (4 से 5.9 फीट) और कंधे की ऊँचाई 77 से 81 सेंटीमीटर (2.5 से 2.6 फीट) होती है। उनका वजन 40 से 86 किलोग्राम (88 से 190 पाउंड) होता है।
  • चित्तीदार हाइना में रात में सुनने व देखने की अद्भुत क्षमता होती है।
  • एक जंगली हाइना का जीवनकाल 10-12 वर्ष है। जबकि कैद में रहने वाला हाइना 25 साल तक जिंदा रहता है।
  • हाइना अक्सर शेर के बच्चों को मार डालते है। हाइना और शेर अक्सर एक ही क्षेत्र या शिकार पर लड़ते है। इससे भयंकर युद्ध होता है और इसमें छोटे बच्चे मारे जाते है।
  • प्राचीन चित्रलिपि के अनुसार, हाइना लोगों द्वारा शिकार किए जाते थे।
  • चित्तीदार शावक अपनी आंखें खोलकर पैदा होते है।
  • हाइना बिना पानी के कई दिनों तक जिंदा रह सकते है।
  • हाइना चिंपांजी की तुलना में अधिक बुद्धिमान होते है।
  • बच्चे के शावक अपनी मां की गर्भावस्था के दौरान छद्म अस्तर लिंग को फाड़ सकते है। इसमें माताओं के जीवन का जोखिम शामिल होता है।
  • केवल मादा हाइना अपने शावक की देखभाल करती है।

Amazing Facts About Hyena In Hindi

  • एर्डवुल्फ (Aardwolf) कीटभक्षी (insectivores) होते है और वे मुख्य रूप से दीमक खाते है। एर्डवुल्फ हर रात में 30,000 दीमक खा सकते है।
  • चित्तीदार लकड़बग्घा (Spotted hyenas) काफ़ी सामाजिक होते है और समूहों में रहते है। उन इनके समूह में 80 तक सदस्य हो सकते है।
  • कभी एकांतप्रिय समझे जाने वाले धारीदार लकड़बग्घा (striped hyenas) वास्तव में छोटे समूहों में रहते है। हालांकि वे भोजन की तलाश में अकेले घूमते है।
  • चित्तीदार लकड़बग्घा (Spotted hyena) अपना 95% आहार जानवरों का शिकार कर प्राप्त करता है।
  • धारीदार लकड़बग्घा (striped hyena) और भूरे हाइना (brown hyena) मृतभक्षी (scavenger) होते है, जो मरे हुए जानवरों को खाते है।
  • भूरा हाइना (brown hyenas) 10 सदस्यों तक का समूह बनाकर रहता है।
  • केन्या और तंजानिया के मसाई जनजाति के लोग अपने मृतकों को दफनाने के बजाए उनका शव लकड़बग्घा के सेवन के लिए छोड़ देते है।
  • लकड़बग्घा को डिज़नी की एनिमेटेड फिल्मों में चित्रित किया गया है, जैसे डंबो (Dumbo), लेडी एंड द ट्रम्प (Lady and the Tramp), नोआस आर्क (Noah’s Ark), बेडकॉब्स और ब्रूमस्टिक्स (Bedknobs and Broomsticks) और द लायन किंग (The Lion King).
  • लकड़बग्घा (hyena) बड़े आकार का, कुत्ते की तरह दिखने वाला एक मांसाहारी (carnivores) जानवर है।
  • लकड़बग्घा के सबसे करीबी संबंधी mongoose और meerkat है।
  • लकड़बग्घा पृथ्वी पर लगभग 24 मिलियन वर्षों से है।
  • लकड़बग्घाओं के अन्य प्रजातियों के विपरीत मादा चित्तीदार लकड़बग्घा नर की तुलना में 10 गुना भारी होती है।
  • सबसे छोटे आकार का लकड़बग्घा एर्डवुल्फ (वैज्ञानिक नाम : Proteles cristata) है। उसकी लंबाई 85 से 105 सेंटीमीटर (33 से 41 इंच) तक होती है। पूंछ इसकी एक-चौथाई होती है। वजन 17.6 से 30.8 पाउंड (8 से 14 किग्रा) तक होता है।
  • लकड़बग्घा मुख्य रूप से निशाचर (nocturnal) जानवर है, लेकिन कभी-कभी सुबह के समय भी अपने मांद से निकल जाता है।
  • एर्डवुल्फ (Aardwolf) को गलती से अक्सर एकांत में रहने वाला जानवर समझा जाता है। लेकिन वास्तव में वे जीवन भर अपने जोड़े के साथ रहते है।
  • धारीदार लकड़बग्घा (Striped hyenas) किसी प्रकार की आवाज़ नहीं निकालते। वे शारीरिक हरकतों के द्वारा संवाद करते है।
  • मादा लकड़बग्घा एक बार में दो से चार शावकों को जन्म देती है।
  • लकड़बग्घा के बच्चे को शावक (cub) कहा जाता है।
  • 2 साल की उम्र में लकड़बग्घा यौन परिपक्वता प्राप्त कर लेते है और अपनी माँ को छोड़कर अलग समूह में शामिल हो जाते है।
  • कायर और डरपोक के रूप में जाना जाने वाला लकड़बग्घा खतरनाक भी हो सकता है और अन्य जानवरों व मनुष्यों पर हमला कर सकता है।
  • लकड़बग्घा और शेर एक-दूसरे द्वारा मारे गए शिकार चुराने के लिए भी जाने जाते है। शिकार के बाद लकड़बग्घा द्वारा अपन साथियों को बुलाने के लिए दी जाने वाली आवाज़ को शेर पहचानता है और वहाँ पहुँचकर उससे लड़कर उसका शिकार छीन लेता है।
  • एक इथियोपियाई लोक धर्म उन लोगों के बारे में बताता है जो बुरी नज़र वाले है और खुद को लकड़बग्घा में बदल सकते है।
  • मध्य युग में माना जाता था कि लकड़बग्घा मृतकों के शवों को खोदकर खा सकते है। हालांकि वे ऐसा नहीं करते है।
  • प्राचीन मिस्र में लकड़बग्घा को पालतू बनाया जाता था और उसका मांस भी खाया जाता था।
  • राष्ट्रीय वन्यजीव फाउंडेशन के अनुसार, वर्तमान में दुनिया में लगभग 10,000 परिपक्व वयस्क लकड़बग्घा है।
  • चित्तीदार हाइना घास के मैदान, वुडलैंड, सवाना, उप रेगिस्तान, जंगल के किनारे और पहाड़ों में पाए जाते है।
  • हाइना में 4 प्रकार की प्रजातियां होती है – स्पॉटेड हाइना (Spotted Hyena), स्ट्राइप्ड हाइना (Stripped hyena), एर्दोवेम्स (Aardwolves) और ब्राउन हाइना (Brown hyena)।
  • एक महिला हाइना का वजन पुरुष हाइना से 30 गुना अधिक होता है।
  • हाइना के मल से तेज गंध आती है और इसका यह मल अन्य हाइना को इंगित करता है कि इस क्षेत्र पर पहले से किसी अन्य हाइना का कब्ज़ा है।
  • शावक एक दूसरे पर प्रभुत्व स्थापित करने के लिए एक-दूसरे से लड़ते है। कई बार यह लड़ाई उनके लिए जानलेवा भी हो जाती है।
दोस्तों उम्मीद है कि आपको हमारी यह पोस्ट Shocking Facts About Jupiter Planet In Hindi पोस्ट पसंद आयी होगी। अगर आपको हमरी यह पोस्ट पसंद आयी है तो आप इससे अपने Friends के साथ शेयर जरूर करे और हमें Subscribe कर ले। ता जो आपको हमारी Latest पोस्ट के Updates मिलते रहे। दोस्तों अगर आपको हमारी यह साइट FactsCrush.Com पसंद आयी है तो आप इसे bookmark भी कर ले।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ