100+ Interesting Unbelievable Facts About Mars In Hindi

Mars Facts in Hindi - आप सभी ने कभी ना कभी मंगल ग्रह के बारे में तो सूना हीं होगा लेकिन क्या कभी आपको इससे जुड़ी कुछ खास बातें कभी किसी ने आपको बताएं है। अगर आप मंगल ग्रह के बारे में कुछ भी नहीं जानते है तो फिक्र मत करों मैं आपको इसी (Interesting Unbelievable Facts About Mars In Hindi) से जुड़े कुछ रोचक तथ्यों के बारे में बताऊंगा।
मंगल गृह सौरमंडल में सूर्य से चौथा ग्रह है। इसके तल की आभा रक्तिम है, जिस वजह से इसे "लाल ग्रह" के नाम से भी जाना जाता है। सौरमंडल के ग्रह दो तरह के होते हैं - “स्थलीय ग्रह” जिनका तल आभासीय होता है और "गैसीय ग्रह" जो अधिकतर गैस से निर्मित हैं। पृथ्वी की तरह, मंगल भी एक स्थलीय धरातल वाला ग्रह है। इसका वातावरण विरल है। इसकी सतह देखने पर चंद्रमा के गर्त और पृथ्वी के ज्वालामुखियों, घाटियों, रेगिस्तान और ध्रुवीय बर्फीली चोटियों की याद दिलाती है। इतना ही नहीं अभी असली जानकारी तो बाक़ी है, तो चलिए जानते है:–
[100+] Interesting Unbelievable Facts About Mars In Hindi

मंगल ग्रह के बारे में रोचक तथ्य - Interesting Facts About Mars Planet in Hindi

  • पृथ्वी से देखे जाने की तुलना में सूर्य का आकार मंगल से लगभग आधा ही दिखाई देता है।
  • क्या आप जानते है March महीने का नाम Mars से ही निकला है।
  • मंगल ग्रह का व्यास 6792 किलोमीटर है।
  • ऐसा माना जाता है कि एलियन जीवो का खोपड़ी मंगल ग्रह पर मिला था।
  • मंगल ग्रह के चंद्रमाओं की खोज 1877 में आसफ हॉल नामक एक अमेरिकी खगोलशास्त्री द्वारा की गई थी।
  • जब मंगल ग्रह सूर्य के ज्यादा नजदीक आता है तब ऐसे तूफ़ान और बढ़ जातेहै।
  • क्या आप जानते है Mars पृथ्वी के व्यास के आधे से भी कम है।
  • मंगल ग्रह का ध्रुवीय व्यास: 6,752 किलोमीटर व् द्रव्यमान: 6.42 x 10 ^ 23 किग्रा है।
  • मंगल ग्रह की कोर को लेकर अभी तक अंतरिक्ष विज्ञानिको को पूरी सफलता नहीं मिली है। आपकी जानकारी के लिए बता दे मंगल ग्रह की सतह ठोस, तरल या दो अलग-अलग परतों से बनी है। इस पर विज्ञानिको में मतभेद रहे है।
  • मंगल ग्रह का व्यास पृथ्वी के व्यास के आधे से भी कम है।
  • नासा समूचे विश्व में एकमात्र अंतरिक्ष अन्वेषण एजेंसी है जो अब तक मंगल पर उतरने में कामयाब रही है।
  • मंगल ग्रह का पड़ोसी ग्रह जिसे बृहस्पति ग्रह के नाम से जाना जाता है। अपने विशाल आकार के कारन मंगल की कक्षा को प्रभावित करने की क्षमता रखता है।
  • मंगल ग्रह पर जीवन की खोज करने के लिए अभी तक कुल 8 अभियान किए गएहै। जिसमें 7 अभियान अमेरिका ने और एक अभियान भारत ने किया है।
  • मंगल ग्रह के उपग्रह फोबोस पर एक बड़ा क्रेटर स्टीकनी है। इसका नाम उसके खोज करने वाले वैज्ञानिक हाल की पत्नी के नाम पर रखा गया है।
  • मंगल ग्रह का पड़ोसी ग्रह जिसे बृहस्पति ग्रह के नाम से जाना जाता है। अपने विशाल आकार के कारन मंगल की कक्षा को प्रभावित करने की क्षमता रखता है।

Amazing Facts about Mars in Hindi - मंगल ग्रह के बारे में दिलचस्ब जानकारी और तथ्य

  • मंगल ग्रह की अधिक जानकारी जुटाने के लिए अब तक 39 अंतरिक्ष मिशनों को अंजाम दिया जा चूका है, लेकिन इन सभी मिशनों में से से केवल 16 ही सफल रहे है।
  • मंगल की सतह का गुरुत्वाकर्षण पृथ्वी पर पाया जाने वाला गुरुत्वाकर्षण का लगभग 37% है।
  • मंगल का गुरुत्वाकर्षण पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण से कम होने के कारन मंगल ग्रह पर आप पृथ्वी की तुलना में 3x अधिक उछल सकतेहै।
  • मंगल ग्रह की कोर को लेकर अभी तक अंतरिक्ष विज्ञानिको को पूरी सफलता नहीं मिली है। आपकी जानकारी के लिए बता दे मंगल ग्रह की सतह ठोस, तरल या दो अलग-अलग परतों से बनी है। इस पर विज्ञानिको में मतभेद रहे है।
  • मंगल सूर्य से चौथा ग्रह है और स्थलीय ग्रहों में अंतिम ग्रह के रूप में जाना जाता है। जोकि सूर्य से लगभग 227,940,000 किलोमीटर दूर है।
  • युद्ध के रोमन देवता Mars के नाम पर इस ग्रह का नाम Mars Planet पड़ा।
  • सौरमंडल में ज्ञात सबसे ऊँचा ज्वालामुखी पर्वत मंगल ग्रह पर है। Olympus Mons एक 21 किलोमीटर ऊंचा और 600 किलोमीटर व्यास का ढाल ज्वालामुखी है जो अरबों साल पहले बना था।
  • हाल ही में NASA JPL के Mars Orbiter द्वारा मंगल की सतह पर कृमि जैसे एलियंस को देखा गया है, आपकी जानकारी के लिए बता दे यह अंतरिक्ष यान पिछले 11 वर्षों से मंगल की परिक्रमा कर रहा है।
  • मंगल में हवा, पानी, बर्फ और भूविज्ञान की एक प्रणाली है, अन्य शब्दों में, इसका एक वातावरण, एक जलमंडल, एक क्रायोस्फीयर और एक स्थलमंडल है।
  • "Seek Signs Of Life" नासा की एक अन्वेषण रणनीति है। जिसे नासा वर्तमान में मंगल पर जीवन की संभावनाओं का पता लगाने के लिए अनुसरण कर रहा है।
  • नासा के अनुसार, पृथ्वी से मंगल की यात्रा करने में लगभग ढाई साल लगते है।
  • गैलीलियो गैलीली ने सर्वप्रथम 1609 में एक मूल दूरबीन के साथ मंगल ग्रह का अवलोकन किया था।
  • पृथ्वी और मंगल के बीच की दूरी बदलती रहती है। क्योंकि इसकी कक्षा (orbit) गोल नही बल्कि अंडाकार है।
  • आपको जानकर हैरानी होगी नासा की 2030 के अंत तक मंगल पर एक पृथ्वी स्वतंत्र कॉलोनी बनाने की योजना है।
  • मंगल पर उपलब्ध भूमि की सतह की मात्रा पृथ्वी पर उपलब्ध भूमि की सतह के लगभग बराबर है।
  • Mars Planet का रंग लाल होने के कारण इस ग्रह को आक्रामकता से जोड़ा जाता है।
  • विज्ञानिको के अनुसार मंगल गृह पर पानी मौजूद है। जोकि ठोस अवस्था में इस गृह पर पाया जाता है, आपकी जानकारी के लिए बता दे पृथ्वी के इलावा मंगल ही एक मात्र ऐसा ग्रह है जिस पर ठोस अवस्था में जल मौजूद है।
  • मंगल ग्रह को पृथ्वी की सतह से रात के समय नग्न आंखों के साथ देखा जा सकता है।
  • वाइकिंग 1 और वाइकिंग 2 दो अंतरिक्ष यानहै जिन्हें नासा द्वारा 1975 में मंगल ग्रह पर इसकी सतह का अध्ययन करने और इसकी संरचना और संरचना के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी इकट्ठा करने के उद्देश्य से भेजा गया था।
  • मंगल पर वातावरण का दबाव पृथ्वी की तुलना में बहुत कम है इसलिए वहां जीवन होने की कम संभावनाएं है।

Information about Mars Planet in Hindi - मंगल ग्रह के बारे में रोचक तथ्य, जानकारी और जीवन संभावनाए

  • मंगल ग्रह का औसत तापमान -55 डिग्री सेल्सियस है। सर्दियों के दिनों में यहां का तापमान -87 डिग्री सेल्सियस और गर्मियों में माइनस -5 डिग्री सेल्सियस हो जाता है।
  • मंगल ग्रह पर समुद्र या महासागर नहीं है। इसलिए कोई समुद्र स्तर नहीं है।
  • विज्ञानिको का मानना है की यह ज्वालामुखी वर्तमान में भी सक्रिय है।
  • नासा समेत पुरे विश्व के अंतरिक्ष विज्ञानियों में मंगल ग्रह को लेकर विशेष रूचि देखीं जाती है, मंगल पर जीवन की संभावना को खोजने के प्रयास में, वैज्ञानिक आमतौर पर मंगल ग्रह पर पानी और जीवों के प्रमाण खोजने में रुचि रखतेहै।
  • मंगल ग्रह पर जल होने की प्रबल संभावनाएंहै। जो कृत्रिम उपग्रह अभी तक मनुष्य द्वारा मंगल ग्रह पर भेजे गएहै उससे मंगल की सतह पर द्रव वस्तु होने के सबूत मिलेहै। वैज्ञानिकों के अनुसार यह बड़ी झीलें और महासागर हो सकतेहै।
  • मेरिनर 9 की तस्वीरों में मंगल पर पानी के स्त्रोत, गड्ढे, विशालकाय ज्वालामुखी, कोहरा, पानी और हवा की वजह से बने जंग के निशान आदि देखे जा सकतेहै।
  • Viking 1 और 2 सन 1976 में मंगल की सतह पर सफलतापूर्वक लैंड करने वाला पहला मंगल मिशन है।
  • मार्स पर कोई भी चुम्बकीय क्षेत्र (magnetic field) नही है। हालांकि माना जाता है की आज से लगभग 4 अरब साल पहले यहाँ भी पृथ्वी की तरह चुम्बकीय क्षेत्र पाए जाते थे।
  • भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने भी 24 सितंबर 2014 को मंगल ग्रह पर अपना पहला अंतरिक्ष मिशन सुरक्षित रूप से पूरा किया, ऐसा करने से, भारत अपने पहले प्रयास में अंतरिक्ष यान को मंगल की कक्षा में स्थापित करने वाला दुनिया का पहला देश बन गया। यह मिशन 5 नवंबर 2013 को लॉन्च किया गया था।
  • मंगल ग्रह पर कभी-कभी धूल भरे तूफान उड़ते रहते है। ये मंगल ग्रह को पूरी तरह घेर लेतेहै।
  • मंगल का अक्षीय झुकाव 25.19 डिग्री है। यह पृथ्वी के अक्षीय झुकाव से अधिक है।
  • मंगल ग्रह पर पृथ्वी के समान ही ऋतुएं पाई जाती है परंतु उनका समय दोगुना होता है।
  • फोबोस उपग्रह पर गुरुत्वाकर्षण बल पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण का 1000 वां हिस्सा है। यदि पृथ्वी पर कोई वस्तु 68 किलोग्राम की है तो उसका वजन फोबोस पर 68 ग्राम होगा।
  • मंगल ग्रह के लिए शुरू किए गए मिशन में से 1/3 मिशन ही सफल हुएहै। Mariner 9 नाम के कृत्रिम उपग्रह ने 13 नवंबर 1971 को मंगल ग्रह की कक्षा में प्रवेश किया था। इसने मंगल ग्रह की 7329 तस्वीरें ली थी और 349 दिनों के लिए यह मंगल की कक्षा में रुका था।
  • इस समय मनुष्य द्वारा बनाई गई 12 वस्तुएं मंगल ग्रह परहै।
  • पृथ्वी की भूपर्पटी 40 किलोमीटर मोटी है, जबकि मंगल ग्रह की भूपर्पटी 50 से 125 किलोमीटर मोटी है।
  • ग्रीक (यूनान) देश में मंगल ग्रह को एरेस कहा जाता है।
  • मंगल ग्रह की मिट्टी में लौह खनिज में जंग लगने के कारण यह लाल रंग का दिखाई देता है।
  • मंगल ग्रह पर 1 साल में 687 दिन (23 महीने के बराबर) होतेहै।
  • मंगल ग्रह के दोनों ध्रुवों पर बर्फ पाई जाती है। वहां पानी और कार्बन डाइऑक्साइड की बर्फ की परत दिखाई देती है। मार्स एक्सप्रेस नाम के कृत्रिम उपग्रह ने मंगल ग्रह की कक्षा में चक्कर काटते हुए यह जानकारी दी थी।

Mars Planet Facts In Hindi - मंगल ग्रह के बारे में रोचक तथ्य

  • सूर्य से दूर होने के कारण मंगल ग्रह का तापमान पृथ्वी की तुलना में बहुत ही कम होता है।
  • Mariner 9 उपग्रह को 30 मई 1971 को लांच किया गया था जो की 13 नवंबर सन 1971 को मंगल पर पहुंचा और आधिकारिक तौर पर मंगल की कक्षा में जाने वाला पहला कृत्रिम उपग्रह बन गया।
  • जब Mariner 9 मंगल की कक्षा पर पहुँचा तब वहां धुल की भयंकर आंधी आई हुई थी, वैज्ञानिको के अनुसार ऐसा तूफ़ान पहली बार देखा गया था।
  • मेरिनर 9 मंगल ग्रह की सतह का 100% मानचित्र तैयार करने में सक्षम था और उसने मंगल के चंद्रमाओं फोबोस और डीमोस की पहली नज़दीकी तस्वीरें लीं थीं। 349 दिनों तक मंगल की कक्षा में रहकर इसने मंगल की 7,329 तस्वीरें लीं।
  • मंगल गृह पर एक दिन की लंबाई 24 घंटे 37 मिनट की होती है और एक वर्ष 687 दिन का होता है।
  • मंगल ग्रह द्वारा सूर्य की परिक्रमा की औसत गति 14.5 मील प्रति सेकंड के करीब है।
  • मंगल ग्रह का औसत घनत्व 3,933 किलोग्राम/मीटर क्यूब (पृथ्वी के औसत घनत्व का लगभग 71%) के करीब है।
  • Mars ग्रह का औसत तापमान -81 डिग्री सेल्सियस और इस ग्रह पर गैसों में ज्यादातर कार्बन डाइऑक्साइड, आर्गन, ऑक्सीजन, नाइट्रोजन गैस मौजूदहै।
  • वैज्ञानिक ने मंगल पर पौधों को उगाने की कोशिश की है और वह टमाटर, मटर और राई उगाने के अपने प्रयास में सफल भी रहे है। अब लगता है। वह दिन दूर नही जब इंसान मंगल पर अपनी जिंदगी बिताएगा।
  • सौरमंडल में फोबोस उपग्रह अपने ग्रह से सबसे कम दूरी वाला उपग्रह है। मंगल की सतह से फोबोस ग्रह की दूरी मात्र 6000 किलोमीटर है जबकि पृथ्वी की चंद्रमा से दूरी 3,84000 किलोमीटर है।
  • 24 सितंबर 2014 को भारतीय कृत्रिम उपग्रह मार्स आर्बिटर मिशन (मंगलयान) मंगल की कक्षा में पहुंच गया। इसके साथ ही भारत अमेरिका, रूस और यूरोपीय संघ के साथ मार्शियन इलीट क्लब में शामिल हो गया। देश के लिए यह एक महान उपलब्धि है।
  • मंगल ग्रह का गुरुत्वाकर्षण पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण का एक तिहाई (1/3) है। इसका अर्थ है कि यदि मंगल पर कोई वस्तु या चट्टान गिरती है तो वह बहुत धीमी रफ्तार से गिरेगी।
  • फोबोस उपग्रह धीरे धीरे मंगल ग्रह की ओर झुक रहा है। यह 100 साल में मंगल की तरफ 1.8 मीटर झुक जाता है। वैज्ञानिकों ने अनुमान लगाया है कि 5 करोड़ों साल में फोबोस मंगल से टकराएगा और टूट जाएगा। यह मंगल के चारों ओर एक घेरा (Ring) बना लेगा।
  • मंगल ग्रह का व्यास लगभग 6791 किलोमीटर है और यह ग्रह सौरमंडल का चोथा ग्रह है। यह ग्रह सूरज से करीब 14.2 करोड़ मिल की दुरी पर है।
  • क्या आपको पता है भारत द्वारा भेजा गया मिशन मंगलयान अब तक का पूरी दुनिया द्वारा भेजे गए सभी मिशन से सस्ता है. मंगलयान मिशन की लागत 450 करोड़ रुपए हुई थी।
  • मंगल ग्रह पर भी पृथ्वी की तरह ही साल में 4 मौसम आते है. पतझड, ग्रीष्म, शरद और शीत. गरमी में यहाँ का तापमान 30 डीग्री सेल्सियस के आसपास रहेता है हालाकी जब शरदि का मौसम आता है तब इसका तापमान -145 डीग्री सेल्सियस तक चला जाता है. वो अलग-अलग जगह पर ज्यादा और कम होता है.
  • मंगल ग्रह के पास दो उपग्रह है जिसका नाम फोबोस(Phobos) और डिमोस(Deimos) है. जिनमे फोबोस का व्यास करीब 13.8 मिल है वही डिमोस का व्यास 7.8 मिल है.
  • सौरमंडल में 2 तरह के ग्रह होते है एक गैस के बादलो से बना होता है दूसरा जमीन यानी की भूमि से बना होता है। मंगल ग्रह भी पृथ्वी की तरह भूमि से बना हुआ है। इसी लिए यहाँ पर जीवन संभव हो सकता है।
  • मंगल के वातावरण में 95.32% कार्बन डाइ ओक्साइड, 1.93% ऑर्गन, 0.13% ओक्सीजन और 2.7% नाइट्रोजन मोजूद है।
  • यदि कोई भी अंतरीक्ष यात्री बिना स्पेस शूट के मंगलपर खड़ा होता है तो तुरंत ही उसकी मृत्यु हो जाएगी।

Top 100+ Unknown Facts About Mars In Hindi

  • क्या आपको पता है की मंगल ग्रह से पृथ्वी और चन्द्रमा दोनों नंगी आँखों से दिखाई देते है पर यह दोनों ग्रह सिर्फ एक छोटे से तारे जैसे दीखते है।
  • अगर मंगल पर जीवन की शुरुआत होती भी है तो भी इन्सानों के लिए जीना बेहद मुस्किल होगा क्यूंकि जहा सूरज के अल्ट्रा वायोलेट किरण को रोकने के लिए पृथ्वी के सतह पर ओजोन स्तर मोजूद है। वही मंगल ग्रह पर सूरज के अल्ट्रा वायोलेट किरण सीधे ही गिरते है जो इन्सानों के लिए बेहद ही घातक और जानलेवा है।
  • मंगल ग्रह की सतह पर वायुमंडलीय दबाव बेहद कम है, यही कारण है कि इसकी सतह पर लंबे समय तक तरल पानी मौजूद नहीं रह सकता।
  • मंगल ग्रह को सूर्य के चारों ओर एक पूर्ण चक्रर लगाने में पृथ्वी से दोगुना समय लगता है।
  • यदि हम पृथ्वी के साथ मंगल के घनत्व की तुलना करतेहै, तो हम पाएंगे कि यह पृथ्वी की तुलना में 100 गुना कम है।
  • क्या आप जानते है पृथ्वी की सतह से बुध, बृहस्पति, मंगल, शनि, और शुक्र को नग्न आंखों से देखा जा सकता है।
  • मंगल की खोज के लिए शुरू किए गए मिशनों की सफलता की दर 66% के लगभग है।
  • मंगल की पृथ्वी से निकटता और उस पर जीवन स्थापित करने की आशा के कारण, मंगल का वर्तमान में बड़े पैमाने पर अध्ययन किया गया है।
  • सौरमंडल में सबसे लंबी और सबसे गहरी घाटी मंगल पर मौजूद है - जिसका नाम " Valles Marineris" है।
  • Valles Marineris की अधिकतम लंबाई - 4000 किलोमीटर, अधिकतम चौड़ाई - 200 किलोमीटर और अधिकतम गहराई - 7 किलोमीटर है।
  • Mars Planet से हर शाम छिपता सूरज नीले रंग का दिखाई देता है।
  • सौर संधि, पृथ्वी और मंगल के बीच सूर्य के आने का वर्णन करने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला एक शब्द है, जिसके तहत मंगल और पृथ्वी पर अंतरिक्ष यान के बीच संचार बहुत कम हो जाता है।
  • प्राचीन बेबीलोनियों ने सप्ताह का निर्माण किया था और एक सप्ताह को सात दिनों में विभाजित किया, उन्होंने सप्ताह के प्रत्येक दिन को आकाश में सात ज्ञात पिंडों पर नाम दिया: जो क्रमश: सूर्य, चंद्रमा, मंगल, बुध, शुक्र, बृहस्पति और शनि से सम्बन्धित है। जिसमे मंगलवार को मंगल गृह का दिन कहा जाता है।
दोस्तों उम्मीद है कि आपको हमारी यह पोस्ट [100+] Interesting Unbelievable Facts About Mars In Hindi पोस्ट पसंद आयी होगी। अगर आपको हमरी यह पोस्ट पसंद आयी है तो आप इससे अपने Friends के साथ शेयर जरूर करे और हमें Subscribe कर ले। ता जो आपको हमारी Latest पोस्ट के Updates मिलते रहे। दोस्तों अगर आपको हमारी यह साइट FactsCrush.Com पसंद आयी है तो आप इसे bookmark भी कर ले।

Post a Comment

0 Comments