[50+] Interesting Facts About Mercury Planet In Hindi

दोस्तों आज हम आपको इस पोस्ट में बुध ग्रह के बारे में रोचक जानकारी देंगे। बुध (Mercury), सौरमंडल के आठ ग्रहों में सबसे छोटा और सूर्य का सबसे निकटतम ग्रह है। इसका परिक्रमण काल लगभग 88 दिन है। पृथ्वी से देखने पर, यह अपनी कक्षा के ईर्द-गिर्द 116 दिवसो में घूमता नजर आता है जो कि ग्रहों में सबसे तेज़ है। तो चलिए अब हम आपको इस बारे में कुछ रोचक तथ्य और बातें (Information & Facts About Mercury Planet In Hindi) बताएंगे।
[50+] Interesting Facts About Mercury Planet In Hindi

बुध ग्रह के बारे में रोचक तथ्य - Interesting Facts About Mercury Planet In Hindi

  • बुध ग्रह पर सर्वप्रथम 1970 में पहला अंतरिक्ष यान भेजा गया था।
  • बुध की सतह पर बड़े-बड़े गड्ढे पाए गए है व् इन गड्ढो के बनने का कारण, क्षुद्रग्रहों और धूमकेतुओं का बुध के साथ टकराव सम्बंधित खगोलीय घटनाए है।
  • बुध ग्रह की सतह पृथ्वी की सतह से 3 गुना मोटी है।
  • बुध ग्रह का अंग्रेज़ी नाम ‘Mercury’ नाम एक रोमन देवता के नाम पर रखा गया है। लेकिन इसकी खोज किसने और कब की ? इसके बारे में किसी को कोई जानकारी नहीं है।
  • बुध ग्रह का वायुमंडल मौसम रहित है, उदाहरण के तोर पर बुध ग्रह के वायुमंडल में पृथ्वी की तरह मौसमी घटनाए नहीं होती।
  • Mercury Planet का गुरुत्वकर्षण पृथ्वी के गुरुत्वकर्षण का सिर्फ 38% है।
  • बुध ग्रह को सूर्य के चारों ओर एक एकल कक्षा को पूरा करने में लगभग पृथ्वी के 88 दिन लगते है।
  • पृथ्वी पर से यदि बुध ग्रह को नंगी आँखो से देखना हो तो इसे सूर्योदय से ठीक पहले और सूर्यास्त के ठीक बाद देखा जा सकता है।
  • प्राचीन रोम के लोग बुध ग्रह को देवताओं का संदेशवाहक कहते थे। क्योंकि यह अंतरिक्ष में काफी तेज़ी से गति करता है।
  • Mercury Planet की सतह पर कुछ प्राचीन लावा क्षेत्रों की उपस्थिति से पता चलता है कि अतीत में बुध पर ज्वालामुखी गतिविधि रही थी।
  • बुध ग्रह का घनत्व 5.427 ग्राम प्रति घन सेंटीमीटर और सतह का गुरुत्वकर्षण बल 3.7 Per Second Square Meter है।
  • सौरमंडल में सबसे कम गोलाकार और सबसे विलक्षण कक्षा बुध ग्रह की है।
  • अगर पृथ्वी पर आपका वजन 100 किलो है तो बुध ग्रह पर यह 38 किलो होगा।
  • बुध का व्यास 4,879 KM है, जो इसे सौरमंडल का सबसे छोटा ग्रह बनाता है और यह आकार में, पृथ्वी के चंद्रमा के बराबर है।

बुध ग्रह से जुड़े रोचक तथ्य व् पूरी जानकारी - Information About Mercury Planet in Hindi

  • बुध जब सूर्य के सबसे नज़दीक होता है। तो अगर आप इस पर खड़े होकर सूर्य को देखें, तो सूर्य अपने आकार से तीन गुना ज्यादा आकार का नज़र आएगा।
  • क्या आप जानते है कि बुध का बाहरी आवरण केवल 400 KM मोटा है।
  • बुध ग्रह बाकी सभी ग्रहों से तेज़ गति से सुर्य की परिक्रमा करता है, लगभग 1 लाख 80 हज़ार किलोमीटर प्रति घंटा। पृथ्वी लगभग 1 लाख 70 हज़ार किलोमीटर प्रति घंटा की रफ़्तार से गति करती है। अगर बात seconds में करें तो बुध एक second में 47.362 किलोमीटर की यात्रा कर लेता है और पृथ्वी 29.78 किलोमीटर।
  • बुध पृथ्वी के बाद सबसे ज्यादा घनत्व वाला पिंड है। बुध का घनत्व 5.43 gm/cm3 है। जबकि पृथ्वी का 5.51 gm/cm3 है। बुध पृथ्वी से 26 गुणा छोटा है। वैज्ञानिकों का अनुमान है कि पृथ्वी से इतना छोटा होने के बावजूद इतना ज्यादा घनत्व होना इस बात की ओर इशारा करता है। कि बुध का केंद्र पृथ्वी के केंद्र की तरह लोहे का बना हुआ है और इसका लौह केंद्र पृथ्वी के लौह केंद्र से बड़ा होगा।
  • इतिहास में बुध ग्रह का सबसे पहला उल्लेख 5000 साल पहले सुमेरी सभ्यता के लोगों द्वारा किया मिलता है।
  • Telescope के माध्यम से बुध ग्रह को देखने वाले पहले इंसान महान वैज्ञानिक गैलीलियो गैलिली थे।
  • बुध ग्रह का कोई उपग्रह (चांद) या गोल छल्ला नहीं है। क्योंकि इसका गुरुत्वाकर्षण बल बहुत कमजोर है।
  • बुध ग्रह सतह के नीचे पृथ्वी की तरह ही टेकटोनिक प्लेट सक्रिय है, जिसके कारण इस ग्रह पर भी भूकंप से जुडी घटनाए होती रहती है।
  • बुध ग्रह का सूर्य के चारों ओर कक्षा का आकार 57,909,227 किमी और Orbit Velocity 170,503 किमी/घंटा है।
  • बुध ग्रह का आयतन 60,827,208,742 घन किमी और गृह का भार लगभग 330,104,000,000,000,000,000,000 किलोग्राम है।
  • Mercury की सतह में तीन महत्वपूर्ण परतें है, जिनके नाम क्रमश: क्रेटर, मैदान और चट्टान है।
  • वैज्ञानिकों का कहना है कि Mercury की सतह पृथ्वी के चंद्रमा कि सतह से मिलती जुलती है।
  • बुध सौरमंडल के उन पांच ग्रहों में से एक है जो आकाश में नग्न आंखों से देखे जा सकते है। अन्य चार है - शुक्र, मंगल, बृहस्पति और शनि।

Amazing Facts About Mercury Planet In Hindi

  • Mercury Planet का औसत तापमान -173 से 427 डिग्री सेल्सियस के बीच बना रहता है।
  • इतिहासकारों के अनुसार बुध ग्रह की खोज 14वीं शताब्दी ई.पू. में असीरियन खगोलविदों द्वारा की गई थी।
  • बुध ग्रह का वजन पृथ्वी के वजन का मात्र 38% है।
  • बुध पर एक सौर दिन (ग्रह की सतह पर दोपहर से दोपहर तक का समय) 176 पृथ्वी दिनों के बराबर रहता है जबकि एक निश्चित बिंदु के संबंध में 1 रोटेशन का समय 59 पृथ्वी दिन तक रहता है।
  • बुध ग्रह की सूर्य से दूरी 46 से 70 मिलियन किमी के साथ सभी ग्रहों की उच्चतम कक्षीय विलक्षणता दुरी है।
  • हाल के वर्षों में NASA के वैज्ञानिकों ने माना ​​है कि Mercury का ठोस लोहा कोर वास्तव में पिघला हुआ हो सकता है, आपकी जानकारी के लिए बता दे आमतौर पर छोटे ग्रहों का कोर तेजी से ठंडा होता है और 1% ही सम्भावना होती है कि लोहा कोर पिघला निकले लेकिन बुध पर सब इसके उलट है।
  • Mercury Planet के सबसे बड़े गड्ढे का आकार जो लगभग 1,550 किमी व्यास का है और इसे 1974 में Mariner 10 जांच द्वारा खोजा गया था।
  • बुध ग्रह पर पाए जाने वाले 250 किलोमीटर से अधिक बड़े गड्ढे को बेसिन कहा जाता है।
  • सूर्य से अपनी निकटता के कारण, बुध ग्रह पर मानव रहित अंतरिक्ष यानो को भेजना बेहद कठिन काम है। Mercury Planet पर अब तक सिर्फ 2 ही अंतरिक्ष यानो को भेजा गया है।
  • बुध ग्रह का पर्यावरण स्थिर नहीं है। इसके ईर्द – गिर्द वायुमंडल की कोई विषेश परत भी नहीं है। जो थोड़े – बहुत परमाणु सौर वायु के कारण इसके दायरे में आ भी जाते है। वह बुध के बहुत गर्म होने के कारण जल्द ही उड़ कर अंतरिक्ष में चले जाते है। इसके कारण इसका पर्यावरण स्थिर नही रहता।
  • बुध ग्रह की सतह ऊबड़-खाबड़ है और सतह पर कई क्रेटर (गड़ढे) भी है। कुछ गड़ढे तो बहुत बड़े है, सैंकड़ो किलोमीटर तक लंम्बे और तीन किलोमीटर तक गहरे।
  • Mercury Planet के वायुमंडल में नाइट्रोजन, हीलियम जैसी गैसों की अधिकता है।
  • वैज्ञानिकों द्वारा किए गए अवलोकन और आंकड़ों के अनुसार, बुध ग्रह आकार में लगातार सिकुड़ रहा है। उदाहरण के तोर पर बुध ग्रह के निर्माण से अब तक यह ग्रह 1.5 किमी व्यास जितना सिकुड़ चूका है।

Unknown Facts About Mercury In Hindi

  • Mariner 10 अंतरिक्ष यान 3 नवंबर 1973 को फ्लोरिडा के केप कैनावेरल से उड़ा था।
  • बुध ग्रह की सतह पर अजीब तरह कि झुर्रियाँ पाई जाती है। उदहारण के तोर पर बुध ग्रह पर अत्यधिक गर्मी के कारण जैसे-जैसे ग्रह का लोहा सिकुड़ना शुरू हुआ, ग्रह की सतह झुर्रीदार बनती चली गई।
  • बुध ग्रह की इन झुर्रियो को Lobate Scarps के नाम से जाना जाता है और यह झुर्रियाँ एक मील तक ऊँची और सैकड़ों मील लंबी हो सकती है।
  • बुध के दिन के तापमान और रात के तापनान में भारी अंतर पाया जाता है। बुध के दिन का तापमान 450°C तक पहुँच जाता है। जबकि रात का तापमान °C से कहीं नीचे -176°C तक ही रह जाता है।
  • बुध ग्रह आकार में शनि के उपग्रह ‘टाइटन’ (Titan) और बृहस्पति (Genymede) के उपग्रह ‘गनीमीड’ से छोटा है। वैसे प्लुटो भी बुध ग्रह से छोटा है, पर अब वैज्ञानिक प्लुटो को ग्रह नहीं मानते, उसे ‘बौने ग्रह’ (Dwarf Planet) का दर्जा दे दिया गया है।
  • सूर्य के सबसे नजदीक होने के बाद भी बुध ग्रह सौरमंडल का दूसरा सबसे गर्म ग्रह है। पहले स्थान पर शुक्र ग्रह है जो सबसे अधिक गर्म है।
  • बुध ग्रह की सतह पर कैलोरीज घाटी है जिसका व्यास 1300 किलोमीटर है। यह चंद्रमा की मारिया घाटी जैसी दिखती है। वैज्ञानिकों का मानना है कि किसी धूमकेतु के टकराने से यह घाटी बनी है। बुध ग्रह पर कुछ सपाट पठार भी है जिनका निर्माण ज्वालामुखीयों के कारण हुआ है।
  • बुध ग्रह के दो साल में तीन दिन होते है। अर्थात बुध सूर्य की दो बार की परिक्रमा में अपनी धुरी की तीन बार परिक्रमा करता है। 1962 से पहले तक यह माना जाता था कि बुध के एक दिन का समय और एक वर्ष का समय बराबर होता है।
  • बुध एक स्थलीय ग्रह है जिसका चुंबकीय क्षेत्र पृथ्वी के चुंबकीय क्षेत्र का मात्र 1% है।
  • सौरमंडल में बुध और शुक्र एकमात्र ऐसा ग्रह है जिनका कोई प्राकृतिक उपग्रह या चंद्रमा नहीं है।
  • बुध को पृथ्वी के बाद दूसरा सबसे घना ग्रह (खनिज की अधिकता) कहाँ जाता है। यह मुख्य रूप से भारी धातुओं और चट्टान की विशाल सरचना से बना ग्रह है।
  • बुध ग्रह सूर्य की परिक्रमा अंडाकार पथ पर करता है। इसकी सूर्य से निकटतम दूरी लगभग 4 करोड़ 60 लाख किलोमीटर है। जबकि अधिकतम दूरी लगभग 7 करोड़ किलोमीटर है।
दोस्तों उम्मीद है कि आपको हमारी यह पोस्ट [50+] Interesting Facts About Mercury Planet In Hindi पोस्ट पसंद आयी होगी। अगर आपको हमरी यह पोस्ट पसंद आयी है तो आप इससे अपने Friends के साथ शेयर जरूर करे और हमें Subscribe कर ले। ता जो आपको हमारी Latest पोस्ट के Updates मिलते रहे। दोस्तों अगर आपको हमारी यह वेबसाइट FactsCrush.Com पसंद आयी है तो आप इसे bookmark भी कर ले।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ