55+ Information & Facts Ramoji Film City Facts in Hindi

Ramoji Film City Facts in Hindi - दोस्तों आज हम आपको रामोजी फिल्म सिटी से जुड़े कुछ रोचक तथ्य बताएंगे। दोस्तों अगर आप कहीं घूमने जाने का प्लान बना रहे हो तो रामोजी फिल्म सिटी एक अच्छा विकल्प हो सकता है। रामोजी फिल्म सिटी दुनिया का सबसे बङा फिल्म स्टूडियो माना जाता है। फिल्म-निर्माण के अलावा रामोजी फिल्म सिटी एक प्रसिद्ध पर्यटन केंद्र भी है, जहां हरसाल दस लाख से भी ज्यादा लोग आते है। रामोजी फिल्म सिटी भारत के राज्य तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद से 25 किलो मीटर दूर नल्गोंडा मार्ग में स्थित है। यह स्टूडियो 2000 एकड़ (8.2 वर्ग किलोमीटर) से भी अधिक क्षेत्र में बनाया गया है। रामोजी फिल्म सिटी स्टूडियो की शुरुवात 1996 में हुई थी। यहाँ एक साथ 15 से 25 फिल्मों की शूटिंग की जा सकती है। तो चलिए अब हम आपको रामोजी फिल्म सिटी से जुड़े कुछ रोचक तथ्य और बातें (Facts & Information About Ramoji Film City) बताते है।
Information & Facts Ramoji Film City Facts in Hindi

रामोजी फिल्म सिटी के बारे में जानकारी - Ramoji Film City in Hindi

  • रामोजी फिल्म सिटी में एनीमल गार्डन में बहुत से वन्य प्राणियों की हरी-भरी आकृतियां खड़ी है। ऐसा लगता है जैसे किसी अभ्यारण्य में पहुंच गए हों।
  • एक जगह चाय बागान के दृश्य को साकार किया गया है, जहां दर्शकों को आसाम या दार्जिलिंग में होने का आभास होता है।
  • रामोजी फिल्म सिटी में एक साथ बीस विदेशी फिल्म और चालीस देशी फिल्में बनाई जा सकती है। रामोजी फिल्म सिटी में न सिर्फ देशी, बल्कि विदेशी फिल्म निर्माता भी आते है।
  • फिल्म सिटी में हर साल करीब दस लाख पर्यटक आते है। फिल्म स्टूडियों इन पर्यटकों के लिए खास आकर्षण होते है। इससे फिल्म सिटी को अरबों की आमदनी होती है।
  • रामोजी फिल्मसिटी ने बॉलीवुड के साथ हॉलीवुड के कई निमार्ताओं को भी प्रभावित किया। इसमें 500 से ज्यादा सेट लोकेशन है। सैंकड़ों उद्यान, पचास के करीब स्टूडियो फ्लोर, अधिकृत सेट्स, डिजिटल फिल्म निर्माण की सुविधाएं, आउटडोर लोकेशन, उच्च-तकनीक के लैस प्रयोगशालाएं, तकनीकी सहायता सभी मौजूद है। फिल्म की आधारभूत संरचना में कॉस्ट्यूम, लोकेशन, मैकअप, सेट-निर्माण, कैमरा, उपकरण, ऑडियो प्रोडक्शन, डिजीटल पोस्ट प्रोडक्शन और फिल्म प्रोसेसिंग की व्यवस्था के बीच यहां एक साथ बीस विदेशी फिल्म और चालीस देशी फिल्में बनाई जा सकती है।
  • बच्चों के लिए है दादा जिन का फंडुस्तान। दरअसल यह एक विशालतम फन पार्क है, जिसके अंदर जाने के लिए पहले दादा जिन के मुंह में प्रवेश करना पड़ता है। अंदर बने टिम्बर लैंड में बच्चे लकड़ी से बने भूलभुलैया में भटकने का मजा लेते है। थ्रिल विला में कई रोमांचक खेल जुटाए गए है। प्रेस्टो में तो खिलौनों का जादुई संसार बाल मन में गुदगुदी सी पैदा करता है। वंडरविला में फल-सब्जियों की आकृतियां लुभाती है। निकट ही कोरोला नामक फूलों की घाटी भी है।
  • मल्टीपर्पस बिल्डिंग ऐसी है, एक तरफ से हीरो का मकान दिखता है। दूसरी ओर पहुंच जाएं तो लगता है कि यह कोई बड़ा अस्पताल है। तीसरी ओर से यह किसी चर्च या कोर्ट के प्रवेशद्वार जैसा है तथा चौथी ओर से यह एक पुस्तकालय का रूप लिए हुए है।

Ramoji Film City Facts in Hindi

  • यहां का मंदिर भी कुछ ऐसा ही है। जहां अकसर भगवान बदलते रहते है। मंदिर का माहौल भी दोतरफा है। एक तरफ से यह शहर की भव्य सड़क पर स्थित नजर आता है तो दूसरी ओर किसी वीरान जगह का मंदिर लगता है। दृश्य की मांग के अनुसार इसकी दिशाओं का प्रयोग होता है।
  • बजट टूरिस्ट और लग्जरी टूरिस्ट दोनों के लिए यहां आलीशान होटल है। सैलानियों के रिक्रिएशन के लिए इन होटलों में एक क्लब हाउस भी है। जिसमें बास्केट बॉल, बैडमिंटन, टेबल टेनिस, बिलियर्ड जैसे खेलों के अलावा अत्याधुनिक जिम और एक स्विमिंग पूल भी है। पर्यटन की इतनी सुविधाओं के कारण कॉरपोरेट सेक्टर की नजर में यह व्यावसायिक पर्यटन का भी एक अच्छा केंद्र है। आए दिन यहां विभिन्न क्षेत्रों के लिए कॉन्फ्रेंस होती है।
  • यहीं नहीं फिल्मों में हरेक दृश्य को यहां दिशा और दशा देने की तकनीकों को विकसित किया गया है, चाहे रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट, मंदिर, महल, पोश कालोनी, शहर, गांव, वन, समुद्र, नदियां, बाजार, पशु-पक्षी, अस्पताल, कोर्ट, चर्च, गुरुद्वारा, मस्जिद, सेंट्रल जेल, हर तरह के वाहन, बिल्डिंग, पुस्तकालय, कालेज, खेल के मैदान, ट्रैकिंग की व्यवस्था यानि फिल्म की पटकथा के आधार पर सबकुछ इनमें बदलाव होता रहता है।

  • फिल्म सिटी का एक आकर्षण बर्ड पार्क भी है, जहां दुनिया भर से लाए गए विभिन्न प्रकार के पक्षियों का घरौंदा बना हुआ है। ऐसे पक्षियों मे राजहंस से लेकर विभिन्न देशों से लाए गए पक्षी शामिल है। इन सभी पक्षियों की देखभाल करने के लिए डॉक्टर और उनकी टीमें यहां तैनात होती है।
  • रामोजी फिल्मसिटी में समय समय पर कार्निवाल होते है। दशहरा-दिवाली, दिसंबर-न्यू ईयर या गर्मियों की छुट्टियों में इसका आयोजन होता है, जो कुछ हफ्तों तक चलता रहता है। इस दौरान कार्निवाल परेड में होती है, जिसमें जोकर, डांसर्स, बाजीगर और तमाम खुशी के रंग शामिल होते है।
  • दुनिया की सबसे बड़ी फिल्म सिटी के लिए गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में नाम दर्ज करवा चुकी 'रामोजी फिल्म सिटी' में आपको ट्रैवलिंग का हर एक्पीरिएंस मिलेगा।

Ramoji Film City Information in Hindi

  • फिल्म सिटी के कोच पर पर्यटन गाइड भी होता है। यहां के कुछ सेट प्राचीन राजा-महाराजाओं के किलों की याद दिलाते है। तो कुछ देश में बॉलीवुड का दर्शन कराते है। इन खूबसूरत सेटों का निर्माण किया है-बिद्युतकेश पांडा ने।
  • रामोजी फिल्म सिटी में पर्यटकों को लुभाने के लिए दो-चार नहीं, बल्कि पचास से अधिक छोटे बड़े मनमोहक उद्यान है। इनमें हर रंग के फूलों की अभूतपूर्व छटा बिखरी हुई है। ड्रीम वैली पार्क में फव्वारों के इर्द-गिर्द टहलते युगल कुछ ऐसा ही महसूस करते है। जैसे सपनों की घाटी में आ पहुंचे हो।
  • दक्षिण के मशहूर फिल्म निर्माता और मीडिया बैरॉन श्री रामोजी राव ने सन् 1996 में रामोजी फिल्म नगर की स्थापना की। रामोजी ग्रुप की ईकाई उषा किरण मूवीज लिमिटेड हिंदी, मलयालम, तेलुगु, तमिल, कन्नड़, मराठी और बांग्ला में अस्सी से भी ज्यादा फिल्में बना चुकी है। उषा किरण मूवीज लिमिटेड ने भारतीय फिल्माकारों की फिल्मी कल्पना के मुताबिक इस फिल्म सिटी का निर्माण किया।
  • रामोजी फिल्म सिटी पूर्व-निर्माण, निर्माण और पश्च-निर्माण की तमाम सुविधाएं मुहैया कराती है। इसमें 500 से ज्यादा सेट लोकेशन है।
  • यहां के मुगल गार्डन में जयपुर के सिसोदिया रानी महल जैसा मंजर नजर आता है। सामने उद्यान में सुंदर फव्वारे है। रात में तो इसका रूप ही बदल जाता है। ये फव्वारे और पूरा उद्यान रंग-बिरंगे प्रकाश से जगमगा उठते है। फव्वारों की रंगीन जलधाराएं देख पर्यटकों को मैसूर के वृंदावन गार्डन में होने का भ्रम होता है।
  • इतिहास में कुछ पीछे जाने की चाह हो तो पर्यटक यूरेका में प्रवेश कर सकते है। वहां पहुंचकर आभास होता है मानो मौर्यकाल में पहुंच गए हों। इसके साथ बनी मजबूत दीवार भी किसी प्राचीन किले की दीवार जैसी ही लगती है। इसके अंदर चौक के आसपास बने भवनों की शैली भी लगभग वैसी ही है जैसे कोई प्राचीन वैभवशाली नगर फिर नए सिरे से बस गया हो। चौक के पास बने दो मार्ग किसी अलग संस्कृति का हिस्सा लगते है।

Facts About Ramoji Film City in Hindi

  • जिन लोगों के लिए खाना-पीना पर्यटन की मौजमस्ती का खास हिस्सा है। उनके लिए यूरेका में चार अलग-अलग तरह के रेस्तरां है। आलमपनाह रेस्तरां में मुगलई खाने से दस्तरखान सजता है तो चाणक्य रेस्तरां में स्वादिष्ट व्यंजनों की शाकाहारी थाली लगाई जाती है। दक्षिण भारतीय भोजन का स्वाद गंगा-जमुना रेस्तरां में लिया जा सकता है तथा गनस्मोक रेस्तरां में फास्टफूड की धूम रहती है।
  • खानपान की तरह शॉपिंग भी सैलानियों के लिए शगल है। खरीदारी करनी हो तो यहां मीना बाजार, मगध शॉप, फ्रंटियर लैंड और ब्लैक कैट वेयर हाउस जैसे केंद्र है। प्रॉप-शॉप में फिल्मी कलाकारों द्वारा प्रयोग की जाने वाली तथा फिल्म निर्माण में काम आने वाली हर तरह की वस्तु होती है। कोई भी खरीद सकता है।
  • यहां हर दिन खास डांस-मस्ती, मूवी मैजिक, रियल स्टंट शो और कई प्रकार की मनोरंजक गतिविधियां होती है। फिल्म सिटी में पर्यटक स्वयं महसूस कर सकता है कि फिल्मी दुनिया कैसी होती है? फिल्म निर्माण और उससे जुड़े तमाम पहलुओं को बारीकियों के साथ जानने का मौका मिलता है।
  • यह एक फिल्म की तरह प्रेतवाधित माना जाता है, जिससे यह अपने नाम के अनुरूप है। फिल्मों के लिए एक लोकप्रिय शूटिंग स्थान, रामोजी फिल्म सिटी ने उन अभिनेताओं से सब कुछ देखा है जो एक शूटिंग के लिए दर्पण में कुछ "अजीब आंकड़े" देखने की बात कबूल करते है, फिल्म की शूटिंग के दौरान छतों से गिरने वाले विशाल झूमर लाइटमैन को कुछ अदृश्य बल की शिकायत होती है, उन्हें पैरापेट से नीचे धकेलने की कोशिश करता है। रामोजी फिल्म सिटी में सुरक्षा गार्ड सूरज ढलने के बाद एक बार और सतर्क हो जाते है, क्योंकि माना जाता है कि यह जगह उन सैनिकों की आत्माओं द्वारा प्रेतवाधित है, जो निज़ाम के शासनकाल के दौरान कई युद्धों में यहां मारे गए थे।
  • इन्हीं सड़कों के बीच स्थित एंजेल्स फाउन्टेन भी बेहद आकर्षक है। रोमन कला के इस सुंदर नमूने को देख प्रेमी युगलों के हृदय में एक अनोखा स्पंदन होता है। वहीं पास ही पांच भव्य प्रतिमाओं के रूप में पश्चिमी नारी के सौंदर्य की उत्कृष्ट अभिव्यक्ति है। एक ही वस्त्र से कोमल तन को ढांपने का असफल प्रयास है।

Ramoji Film City in Hindi

  • यदि किसी ऐतिहासिक स्थल की सैर करने का मन हो तो हवा महल पहुंच जाएं। वास्तुशिल्प भव्य महल जैसा है। सुंदर बारादरी के साथ-साथ नक्काशीदार छतरियां भी बनी है। सामने ढलान पर सुंदर झरना है। इसके आसपास घास पर बैठकर पर्यटक तस्वीरें खिंचवाना पसंद करते है।
  • यूरेका में एक मार्ग बढ़ने पर किसी अरब देश की संस्कृति झलकती है। दूसरे मार्ग पर अमेरिका के प्राचीन काउ ब्वाय विलेज का नजारा है। वहां लकड़ी के घर के आसपास रखा साजो सामान देखकर तो यही लगता है कि बस अभी चमड़े की कैप और जैकेट पहने काउ ब्वायज की टोली घोड़ों पर दौड़ती चली आएगी।
  • पर्यटकों को उस समय सबसे ज्यादा ताज्जुब होता है जब वह स्वयं को लंदन की प्रिंसेस स्ट्रीट में खड़ा पाते है। खूबसूरत आधुनिक विला और बंगलों के बीच पहुंचकर किसी पश्चिमी देश के नगर में खड़े होने का भ्रम होता है। यहां बने ग्रामीण परिवेश, व्यस्त बाजार, हाइवे के ढाबे, सेंट्रल जेल आदि के सेट भी अत्यंत स्वाभाविक से दिखते है। सब कुछ बनावटी होते हुए भी यह सब पर्यटकों को इतना भाता है कि वे प्राय: हर सेट के सामने खड़े होकर फोटो अवश्य खिंचवाते है।
  • वंडरलैंड रामोजी फिल्म सिटी में विभिन्न प्रजातियों की तितलियों को समर्पित एक पार्क बनाया गया है। यह 72 हजार स्क्वेयर फीट में फैला हुआ है। इसमें हजारों प्रकार की तितलियां संग्रहित है। यह एक प्रयोगशाला की तरह है जहां विभिन्न प्रजाति की कई रंगों, आकार-प्रकार की तितलियां देखी जा सकती है।
  • जैसा कि नाम है वामन यानी बौना, यह एक आनंदभरा बोनसाई संस्कृति वाला पार्क है। यहां 150 से अधिक प्लांट्स है। जो बोनसाई कला के प्रशंसक है, उनके लिए यह पार्क खासतौर पर दर्शनीय है। इसमें 86 जेनेरा और 132 स्पीसीज और प्लांट किंगडम के कई पौधों को शामिल किया गया है।

Bharat ki Sabse Badi Film City

  • फिल्म सिटी के प्रवेशद्वार पर एक तीन-सितारा होटल तारा और पंच सितारा होटल सितारा फिल्म स्टूडियो की सुंदरता में चार चांद लगाती है। ये होटल पर्यटकों और फिल्म निर्माण से जुड़े लोगों को आरामदेह ठहराव देता है। होटल के एक ओर हवा महल है जहां से फिल्म सिटी का विहंगम स्वरूप देखा जा सकता है।
  • फिल्म सिटी नवविवाहित जोड़ों के लिए हनीमून पैकेज भी देती है। जापानी गार्डन, ईटीवी प्लेनेट, ताल, कृत्रिम जलप्रपात, हवाई अड्डा, अस्पताल, रेलवे स्टेशन, चर्च, मस्जिद, मंदिर, शॉपिंग कॉपलेक्स, खूबसूरत इमारतें, देहाती दुनिया, स्लम, राजपथ आदि इस फिल्म सिटी के दर्शनीय स्थल है।
  • रामोजी फिल्म सिटी में अम्ब्रेला गार्डन में फूलों से बनी छतरियों की कतारें है। इन पर लाल और सफेद रंग के फूलों की घाटी सी फैली है।
  • जापानी गार्डन में सैलानियों को ऐसा लगता है जैसे वे जापान ही पहुंच गए हो। इसी तरह डेजर्ट गार्डन और कोम्बो गार्डन की जीवंत दृश्यावली भी नवविवाहित युगलों का मन मोह लेती है।
  • फंडुस्तान में एक बड़ा सा पानी का जहाज भी खड़ा है। यहां बच्चे वीडियो गेम का मजा भी ले सकते है। डेली एक्सप्रेस एक मिनी ट्रेन रेस्टोरेंट है। इसमें बच्चों के टेस्ट की हर चीज मिलती है। यहां बोरासोरा नामक एक थ्रिलर पार्क भी है। इसमें रहस्य और रोमांच की एक हैरतअंगेज दुनिया है। कभी सामने भयानक सुरंग नजर आती है तो कभी डरावने दृश्य दिखाई देते है। फंडुस्तान एक ऐसा वैभवपूर्ण बाल जगत है जो पूरे परिवार के मनोरंजन का केंद्र बन जाता है।
  • फिल्मसिटी में आने वाले पर्यटक फिल्मों के सेट देखने को भी बेहद उत्सुक होते है। टूर गाइड फिल्म घुमाने के दौरान यह बताता है कि किस फिल्म की शूटिंग यहां हो चुकी है। एयरपोर्ट के सेट पर खड़े होकर लगता ही नहीं यह नकली एयरपोर्ट लाउंज है। यहां का रेलवे स्टेशन भी अपने आप में अनूठा है। जरूरत के अनुसार इसका नाम भी बदलता रहता है। वैसे यहां टिकटघर, समयसारिणी, प्रतीक्षालय और स्टेशन मास्टर के केबिन के अलावा रेल इंजन और बोगियां भी है।
  • एडवेंचर के शौकीनों के लिए साहस को ऐसे तैयार किया गया है, जिसमें बच्चे, बुजुर्ग और जवान एडवेंचर एक्टीविटीज में शामिल हो सकते है। धड़कन बढ़ाने वाली गतिविधियों के बीच खुद का आत्मविश्वास बढ़ता है तो खुद की काबिलियत बढ़ाने का मौका भी।
दोस्तों उम्मीद है कि आपको हमारी यह पोस्ट Information & Facts Ramoji Film City Facts in Hindi पोस्ट पसंद आयी होगी। अगर आपको हमरी यह पोस्ट पसंद आयी है तो आप इससे अपने Friends के साथ शेयर जरूर करे और हमें Subscribe कर ले। ता जो आपको हमारी Latest पोस्ट के Updates मिलते रहे। दोस्तों अगर आपको हमारी यह साइट FactsCrush.Com पसंद आयी है तो आप इसे bookmark भी कर ले।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ